संभलने नहीं देते!

ख़ातिर से तेरी याद को टलने नहीं देते,
सच है कि हमीं दिल को संभलने नहीं देते|

अकबर इलाहाबादी

Leave a Reply