तहज़ीब-ए-ग़म समझने का!

जिन्हें सलीका है तहज़ीब-ए-ग़म समझने का,
उन्हीं के रोने में आँसू नज़र नहीं आते|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply