आप ही समझाता है !

दिल को नासेह की ज़रूरत है न चारागर की,
आप ही रोता है औ आप ही समझाता है ।

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

2 Comments

Leave a Reply