चले जाते हैं अपनी धुन में!

हम कहीं और चले जाते हैं अपनी धुन में,
रास्ता है कि कहीं और चला जाता है|

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

2 Comments

Leave a Reply