चहचहाती बुलबुलों पर—

दो दिलों के दरमियाँ दीवार-सा अंतर न फेंक,
चहचहाती बुलबुलों पर विषबुझे खंजर न फेंक|

कुंवर बेचैन

4 Comments

Leave a Reply