मौत का मंतर न फेंक!

हो सके तो चल किसी की आरजू के साथ-साथ,
मुस्कराती ज़िंदगी पर मौत का मंतर न फेंक|

कुंवर बेचैन

Leave a Reply