इतने अभी बच गए आदमी!

हाय इतने अभी बच गए आदमी,
गिनते-गिनते जिन्हें दोपहर हो गई|

रामावतार त्यागी

Leave a Reply