एक ग़म था जो अब—

एक ग़म था जो अब देवता बन गया,
एक ख़ुशी है कि वह जानवर हो गई|

रामावतार त्यागी

Leave a Reply