एक बस्ती थी वो भी—

ज़िंदगी एक-रस किस क़दर हो गई,
एक बस्ती थी वो भी शहर हो गई|

रामावतार त्यागी

Leave a Reply