कोई खुद्दार दीपक—

कोई खुद्दार दीपक जले किसलिए,
जब सियासत अंधेरों का घर हो गई|

रामावतार त्यागी

Leave a Reply