मशालें लगातार बढ़ती गईं!

जब मशालें लगातार बढ़ती गईं,
रौशनी हारकर मुख्तसर हो गई|

रामावतार त्यागी

2 Comments

Leave a Reply