वो लहर हो गई!

कल के औ आज के, मुझ में यह फ़र्क है,
जो नदी थी कभी वो लहर हो गई|

रामावतार त्यागी

Leave a Reply