छोटे-छोटे पाँव!

एक तो लंबा सफर दूसरे ये कठिनाई है,
छोटे-छोटे पाँव ज़िंदगी लेकर आई है|

रमेश रंजक

Leave a Reply