जो वीरान महल पड़ता है!

कल वहाँ चांद उगा करते थे हर आहट पर
अपने रास्ते में जो वीरान महल पड़ता है|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply