आशिक़ी का वो ज़माना याद है!

चुपके-चुपके रात दिन आँसू बहाना याद है,
हमको अब तक आशिक़ी का वो ज़माना याद है|

हसरत मोहानी

Leave a Reply