नंगे पाँव आना याद है!

दोपहर की धूप में मेरे बुलाने के लिए,
वो तेरा कोठे पे नंगे पाँव आना याद है|

हसरत मोहानी

Leave a Reply