ऐसे लिपटें तेरी क़बा हो जाएं!

अब के गर तू मिले तो हम तुझसे,
ऐसे लिपटें तेरी क़बा हो जाएं|

अहमद फराज़

Leave a Reply