कल जाने क्या से क्या हो जाएं!

तू भी हीरे से बन गया पत्थर,
हम भी कल जाने क्या से क्या हो जाएं|

अहमद फराज़

Leave a Reply