कांटे चुभा लिए!

चाहा था एक फूल ने तड़पे उसी के पास,
हमने खुशी के पाँवों में कांटे चुभा लिए|

कुंवर बेचैन

Leave a Reply