हाथ में पत्थर उठा लिए!

दो चार बार हम जो कभी हँस-हँसा लिए,
सारे जहां ने हाथ में पत्थर उठा लिए|

कुंवर बेचैन

Leave a Reply