कुछ हैं ज़माने के लिए!

हम हैं कुछ अपने लिए कुछ हैं ज़माने के लिए,
घर से बाहर की फ़ज़ा हँसने-हँसाने के लिए|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply