ताश के पत्तों-सी सजी है दुनिया!

मेज़ पर ताश के पत्तों-सी सजी है दुनिया,
कोई खोने के लिए है कोई पाने के लिए|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply