आदमी का ख़्वाब सही!

ख़ुदा नहीं न सही, आदमी का ख़्वाब सही,
कोई हसीन नज़ारा तो है नज़र के लिए|

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply