आवाज़ में असर के लिए!

वो मुतमइन हैं कि पत्थर पिघल नहीं सकता,
मैं बेक़रार हूँ आवाज़ में असर के लिए|

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply