चिराग़ाँ हर एक घर के लिए!

कहां तो तय था चिराग़ाँ हर एक घर के लिए,
कहां चिराग़ मयस्सर नहीं शहर के लिए|

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply