जिएं तो अपने बग़ीचे में–

जिएं तो अपने बग़ीचे में गुलमोहर के तले,
मरें तो ग़ैर की गलियों में गुलमोहर के लिए|

दुष्यंत कुमार

2 Comments

Leave a Reply