साये में धूप लगती है

यहाँ दरख्तों के साये में धूप लगती है,
चलो यहाँ से चलें और उम्र भर के लिए|

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply