सिल दे ज़ुबान शायर की!

तेरा निज़ाम है सिल दे ज़ुबान शायर की,
ये एहतियात ज़रूरी है इस बहर के लिए|

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply