आज सता ले मुझको!

कल की बात और है मैं अब सा रहूँ या न रहूँ,
जितना जी चाहे तेरा आज सता ले मुझको|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply