कभी आ के चुरा ले मुझको!

मैं खुले दर के किसी घर का हूँ सामां प्यारे,
तू दबे पाँव कभी आ के चुरा ले मुझको|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply