जूड़े में सजा ले मुझको!

मैं जो कांटा हूँ तो चल मुझसे बचाकर दामन,
मैं हूँ गर फूल तो जूड़े में सजा ले मुझको|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply