देखा नहीं आईने से आगे कुछ भी!

तूने देखा नहीं आईने से आगे कुछ भी,
ख़ुदपरस्ती में कहीं तू न गँवा ले मुझको|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply