नसीब अपना बना ले मुझको!

अपने हाथों की लकीरों में बसा ले मुझको,
मैं हूँ तेरा नसीब अपना बना ले मुझको|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply