सपना है अभी भी!

हिन्दी साहित्य की प्रत्येक विधा में अद्वितीय लेखन करने वाले, भले ही वह उपन्यास, कहानी और निबंध लेखन हो तथा हिन्दी कविता के गीत, नवगीत और अगीत सभी क्षेत्रों में अपनी छाप छोड़ने वाले और धर्मयुग पत्रिका के यशस्वी संपादक स्वर्गीय धर्मवीर भारती जी की कुछ कविताएं मैंने पहले भी शेयर की हैं| आज उनकी एक और कविता शेयर कर रहा हूँ|

जीवन में मनुष्य का ध्येय, उसका संकल्प और सपना ही उसे सब कुछ करने को प्रेरित करता है| लीजिए प्रस्तुत है इसी को प्रभावी अभिव्यक्ति देती स्वर्गीय धर्मवीर भारती जी की यह कविता –



क्योंकि सपना है अभी भी
इसलिए तलवार टूटी अश्व घायल
कोहरे डूबी दिशाएं
कौन दुश्मन, कौन अपने लोग, सब कुछ धुंध धूमिल
किन्तु कायम युद्ध का संकल्प है अपना अभी भी
क्योंकि सपना है अभी भी!

तोड़ कर अपने चतुर्दिक का छलावा
जब कि घर छोड़ा, गली छोड़ी, नगर छोड़ा
कुछ नहीं था पास बस इसके अलावा
विदा बेला, यही सपना भाल पर तुमने तिलक की तरह आँका था
(एक युग के बाद अब तुमको कहां याद होगा?)
किन्तु मुझको तो इसी के लिए जीना और लड़ना
है धधकती आग में तपना अभी भी
क्योंकि सपना है अभी भी!

तुम नहीं हो, मैं अकेला हूँ मगर
वह तुम्ही हो जो
टूटती तलवार की झंकार में
या भीड़ की जयकार में
या मौत के सुनसान हाहाकार में
फिर गूंज जाती हो

और मुझको
ढाल छूटे, कवच टूटे हुए मुझको
फिर तड़प कर याद आता है कि
सब कुछ खो गया है – दिशाएं, पहचान, कुंडल,कवच
लेकिन शेष हूँ मैं, युद्धरत् मैं, तुम्हारा मैं
तुम्हारा अपना अभी भी


इसलिए, तलवार टूटी, अश्व घायल
कोहरे डूबी दिशाएं
कौन दुश्मन, कौन अपने लोग, सब कुछ धूंध धुमिल
किन्तु कायम युद्ध का संकल्प है अपना अभी भी
क्योंकि सपना है अभी भी!


आज के लिए इतना ही,
नमस्कार|
********

2 Comments

Leave a Reply