नदी गुनगुनाई ख़यालात की!

उजालों की परियाँ नहाने लगीं,
नदी गुनगुनाई ख़यालात की|

बशीर बद्र

2 Comments

Leave a Reply