किसी जुर्म की सज़ा ही नहीं!

धन के हाथों बिके हैं सब क़ानून
अब किसी जुर्म की सज़ा ही नहीं।

कृष्ण बिहारी ‘नूर’

2 Comments

Leave a Reply