झूठ बोलता ही नहीं

जड़ दो चांदी में चाहे सोने में,
आईना झूठ बोलता ही नहीं।

कृष्ण बिहारी ‘नूर’

Leave a Reply