मिल जाना क्या, न मिलना क्या!

उसका मिल जाना क्या, न मिलना क्या
ख्वाब-दर-ख्वाब कुछ मज़ा ही नहीं।

कृष्ण बिहारी ‘नूर’

Leave a Reply