अपना शरीक-ए-ग़म!

परछाइयों के शहर की तनहाइयां न पूछ,
अपना शरीक-ए-ग़म कोई अपने सिवा न था।

मुमताज़ राशिद

Leave a Reply