उधर रास्ता न था!

पत्थर सुलग रहे थे कोई नक्श-ए-पा न था,
हम जिस तरफ़ चले थे उधर रास्ता न था।

मुमताज़ राशिद

Leave a Reply