हवा का पता न था!

पत्तों के टूटने की सदा घुट के रह गई,
जंगल में दूर-दूर, हवा का पता न था।

मुमताज़ राशिद

Leave a Reply