आधी सोई आधी जागी!

बाँस की खुर्री खाट के ऊपर, हर आहट पर कान धरे|
आधी सोई आधी जागी,थकी दोपहरी जैसी मां |

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply