चंचल लड़की जैसी मां!

बांट के अपना चेहरा, माथा, आँखें जाने कहाँ गई|
फटे पुराने इक अलबम में, चंचल लड़की जैसी मां|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply