इक ये दिन जब–

इक ये दिन जब अपनों ने भी हमसे रिश्ता तोड़ लिया,
इक वो दिन जब पेड़ की शाख़े बोझ हमारा सहती थीं|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply