पलकें बोझल रहती थीं!

इक ये दिन जब जागी रातें दीवारों को तकती हैं,
इक वो दिन जब शामों की भी पलकें बोझल रहती थीं।

जावेद अख़्तर

Leave a Reply