सारी भोली बातें रहती थीं!

इक ये दिन जब ज़हन में सारी अय्यारी की बातें हैं,
इक वो दिन जब दिल में सारी भोली बातें रहती थीं।

जावेद अख़्तर

Leave a Reply