शब भर रहा चर्चा तेरा!

कल चौदहवीं की रात थी शब भर रहा चर्चा तेरा।
कुछ ने कहा ये चांद है कुछ ने कहा चेहरा तेरा।

इब्ने इंशा

Leave a Reply