शायर तेरा, ‘इन्शा’ तेरा!

बेदर्द, सुननी हो तो चल, कहता है क्या अच्छी ग़ज़ल,
आशिक़ तेरा, रुसवा तेरा, शायर तेरा, ‘इन्शा’ तेरा।

इब्ने इंशा

Leave a Reply