कुछ कांपता रह गया!

आते आते मेरा नाम सा रह गया,
उसके होठों पे कुछ कांपता रह गया|

वसीम बरेलवी

Leave a Reply