गुलशन का कारोबार चले!

गुलों में रंग भरे बाद-ए-नौ-बहार चले,
चले भी आओ के गुलशन का कारोबार चले|

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

2 Comments

Leave a Reply